Topnewspro

शानदार उभरती कृषि प्रौद्योगिकियां

Emerging Agricultural Technologies

Topnewspro.com शेखर द्वारा “शानदार ढंग से उभरती कृषि प्रौद्योगिकियों” समाचार को जोड़ा गया है।

आज, पिछले वर्षों में कृषि प्रौद्योगिकियों में दो अरब से अधिक धन का निवेश किया जाता है। हाल के वर्षों में उद्यम पूंजीपतियों द्वारा यह निवेश बढ़ने की उम्मीद है। इन प्रौद्योगिकियों में बहुत से निवेश करते हैं क्योंकि उनके लिए मांग बहुत अधिक है। इन अभिनव प्रौद्योगिकियों के बड़े उत्पादन के लिए एक बड़ी मदद मिली है। आधुनिक और पारंपरिक दोनों किसानों ने इन तकनीकों को अपने कृषि प्रथाओं में शामिल किया है। ये प्रौद्योगिकियां और कृषि तकनीक बहुत भविष्यवादी हैं।

विवरण प्राप्त करें @ https://www.logicresearch.net

कृषि में आधुनिक प्रौद्योगिकी के लाभ
इस तकनीक की आवश्यकता बहुत अधिक हो गई है और कई वैज्ञानिकों ने अपने प्रयोगों को सच साबित कर दिया है। कृषि में इन प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके परिणाम निर्दोष हैं। आइए कुछ महान उभरती कृषि प्रौद्योगिकियों को देखें जो एक कुशल उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

मृदा सेंसर
यह शानदार ढंग से निर्मित उपकरण जो मिट्टी में नमी और नाइट्रोजन स्तर को महसूस करते हैं। यह तकनीक किसानों के लिए बहुत उपयोगी है। किसानों के लिए मैन्युअल रूप से सिंचाई करने के लिए यह जांचने में बहुत समय हो सकता है कि यह उपकरण स्वचालित रूप से तय करता है कि मिट्टी को कब पानी देना है। यह एक बहुत टिकाऊ और विश्वसनीय उपकरण है जो भी बहुत किफायती है। यह उपकरण पानी और मिट्टी जैसे बहुमूल्य संसाधनों को संरक्षित रखने में भी मदद करता है। यह उर्वरकों के उपयोग को कम करने में भी सहायक है। कई किसान इस तकनीक को बर्दाश्त करने में सक्षम हैं और उनके लिए बाजार में वृद्धि हुई है।

मौसम ट्रैकर
कृषि भूमि के लिए एक अनुकूल जलवायु स्थिति बहुत महत्वपूर्ण है। मौसम रिपोर्ट के बारे में जानकारी की कमी के कारण कई कृषि क्षेत्रों को काफी नुकसान पहुंचाया गया है। यदि वास्तविक मौसम रिपोर्ट है तो किसान सावधानी पूर्वक कदम उठा सकेंगे। यह नई तकनीक स्मार्ट उपकरणों के माध्यम से किसान के लिए मौसम रिपोर्ट तैयार करती है। इन मौसम रिपोर्टों को विशेष रूप से किसानों के लिए प्रसारित किया जाता है। यह मौसम रिपोर्ट किसानों के लिए कठोर जलवायु परिवर्तनों के कारण होने वाले नुकसान को दूर करने के लिए कदम उठाने के लिए एक उन्नत रिपोर्ट है। हालांकि, कम्प्यूटरीकृत मौसम रिपोर्ट किसानों के लिए इस विशेष रिपोर्ट का उत्पादन करना बहुत मुश्किल है।

सैटेलाइट इमेजिंग
यह जबरदस्त तकनीक किसानों को उपग्रहों के माध्यम से फसलों की छवियां प्राप्त करने में मदद करती है। ये चित्र केवल सामान्य छवियां नहीं हैं, वे फसलों की एक उच्च-रिज़ॉल्यूशन वाली तस्वीर हैं। यह तकनीक किसानों को स्वस्थ फसलों और जो बीमारी है, के बीच अंतर करने में मदद करती है। किसानों को मैदान में व्यक्तिगत रूप से फसलों की जांच करने की ज़रूरत नहीं है, वे केवल फसलों की छवियों को देख सकते हैं। यह तकनीक कम समय लेने वाली है और यह भी सस्ती है। इस तकनीक को फसल ट्रैकर और मिट्टी सेंसर से जोड़ा जा सकता है ताकि कुछ समस्या होने पर किसान को अधिसूचित किया जा सके।

कृषि रोबोट
ये कृषि रोबोट कृषि क्षेत्र में कटाई, पिकिंग, मिट्टी को बनाए रखने, रोपण, सिंचाई और खरपतवार जैसे विभिन्न स्वचालित कार्यों का प्रदर्शन करते हैं। यह रोबोट किसानों के वर्कलोड को कम कर देता है। ये रोबोट स्वचालित वाहनों और मशीनों को नियंत्रित करने में भी सक्षम हैं। यह रोबोट प्रौद्योगिकी कृषि क्षेत्र में एक क्रांति है। ये रोबोट पूर्व-प्रोग्राम किए गए हैं ताकि वे उनके लिए नियुक्त कार्यों को बहुत कुशलतापूर्वक कर सकें। इन रोबोटों पर नियंत्रण रखने वाले कुछ वाहन ट्रैक्टर और बेलर हैं। वे फसलों को बहुत अच्छी तरह से बीजिंग में बहुत सुसज्जित हैं और वे बीज को सही ढंग से भी उर्वरित कर सकते हैं। वे कई नेविगेशन सिस्टम भी संचालित कर सकते हैं।

Minichromosomal प्रौद्योगिकी
यह तकनीक संरचना बहुत छोटी है लेकिन इससे कृषि उद्योगों में अच्छे परिणाम हो सकते हैं। यह तकनीक विज्ञान से संबंधित है। कई वैज्ञानिक एक फसल का उत्पादन और आविष्कार करने के लिए काम कर रहे हैं जो जीव के जीनोम को बदलकर उच्च उत्पादन की ओर जाता है। यह अविश्वसनीय आविष्कार नई संकर फसलों को खोजने में मदद करता है। इस तकनीक के कुछ पहलुओं को समाधान ढूंढना बहुत मुश्किल है। ये फसलें सूखे में जीवित रहने में सक्षम नहीं हो सकती हैं और नाइट्रोजन के स्तर को तय करना कठिन होता है। इन फसलों के मूल गुणसूत्रों को नहीं बदला जाता है, लेकिन केवल नई जीनोम को नई कुशल फसलों का उत्पादन करने के लिए निकाला जाता है।

उपकरण टेलीमैटिक्स
मशीनीकरण ने कृषि को एक नए उच्च स्तर पर ले लिया है। कृषि में मुख्य बाधाओं में से एक है जब तकनीकी दोष होता है। मशीन की विफलता एक बेहद अनिश्चित घटना है लेकिन यह कृषि को प्रभावित कर सकती है। इन मशीनों को मरम्मत के लिए काफी समय लग सकता है और फिर उन्हें मैदान में उपयोग किया जा सकता है। यह उपकरण टेलीमैटिक्स तकनीक मशीनों के कारण होने वाले सभी बाधाओं को हटा देती है। अगर किसी भी मशीन विफलता होने जा रही है तो यह किसानों को स्वयं से पहले चेतावनी देता है। यह तकनीक किसानों को दोष के प्राथमिक चरण में मशीन की मरम्मत करने में मदद करती है। यह बहुत महंगा हो सकता है जब कई नुकसान के बाद मशीन को ठीक किया जाना चाहिए। जब मशीनें समय पर तय की जाती हैं तो इसकी लागत कम होगी।

परिवर्तनीय दर नियंत्रण प्रौद्योगिकी
किसी भी उद्योग में वित्त एक बहुत ही आवश्यक कारक है। कृषि क्षेत्र में, उर्वरकों, खाद, फसलों, कीटनाशकों और जड़ी-बूटियों को खरीदने के लिए बहुत सारे पैसे खर्च किए जाने हैं। परिवर्तनीय नियंत्रण प्रणाली फ़्रेमर्स को इन संसाधनों के साथ कुशल होने में सहायता करती है। इन संसाधनों की खरीद से अधिक पैसा खर्च हो सकता है और अन्य संसाधनों पर अतिरिक्त धन का उपयोग किया जा सकता है। लेकिन इन संसाधनों के लिए लागत की सटीक राशि की गणना करना हमेशा आसान नहीं होता है। परिवर्तनीय दर प्रौद्योगिकी किसानों को इन संसाधनों के लिए सटीक राशि जानने में मदद करेगी। प्रणाली कृषि क्षेत्र के डिजाइन और संरचना का पता लगाएगी। यह समझदारी से संसाधनों की सटीक लागत की गणना करेगा जो उस भूमि के लिए पर्याप्त होगा।

सिंथेटिक जैव
यह सिंथेटिक जैविक प्रणाली मानक जैविक कारकों को कम्प्यूटरीकृत करती है। यह तकनीक उन सभी संशोधनों के बारे में है जो रासायनिक तत्वों, सामग्रियों, पुनर्गठन, पुन: डिजाइन करने, सूचनाओं को संसाधित करने, ऊर्जा का उत्पादन करने, भोजन का उत्पादन करने, बनाए रखने और हमारे पर्यावरण के संवर्द्धन के लिए सभी चीजों को करने के लिए किया जा सकता है।

कृषि में तकनीकी नवाचार
कृषि उद्योग में ये सभी उभरती प्रौद्योगिकियां दक्षता और उत्पादकता में बड़े पैमाने पर सुधार करती हैं। इस तकनीक का उद्देश्य कृषि प्रथाओं को आसान बनाना है। वे पैसा, समय, संसाधन और ऊर्जा जैसे फ़्रेमर्स के लिए बहुत सारी चीजें बचाते हैं। इन प्रौद्योगिकियों में और भी प्रगति की संभावनाएं हैं जो खाद्य कमियों और कम खेती जैसे कई आर्थिक संकटों को खत्म कर देगी।

ShekharD